Ghunghroo Ki Tarah Lyrics-Kishore Kumar, Chor Machaye Shor

  • Post comments:0 Comments

Title- घुंघरू की तरह
Movie/Album- चोर मचाए शोर Lyrics-1974
Music By- रविन्द्र जैन
Lyrics- रविन्द्र जैन
Singer(s)- किशोर कुमार

घुंघरू की तरह बजता ही रहा हूँ मैं
कभी इस पग में, कभी उस पग में
बंधता ही रहा हूँ मैं
घुंघरू की तरह…

कभी टूट गया, कभी तोड़ा गया
सौ बार मुझे फिर जोड़ा गया
यूँ ही लुट-लुट के, और मिट-मिट के
बनता ही रहा हूँ मैं
घुंघरू की तरह…

मैं करता रहा औरों की कही
मेरी बात मेरे मन ही में रही
कभी मंदिर में, कभी महफ़िल में
सजता ही रहा हूँ मैं
घुंघरू की तरह…

अपनों में रहे या गैरों में
घुंघरू की जगह तो है पैरों में
फिर कैसा गिला जग से जो मिला
सहता ही रहा हूँ मैं
घुंघरू की तरह…

Leave a Reply