Idhar Ka Maal Udhar Lyrics-Bhupinder Singh, Deewaar

  • Post comments:0 Comments

Title- इधर का माल उधर
Movie/Album- दीवार Lyrics-1975
Music By- राहुल देव बर्मन
Lyrics- साहिर लुधियानवी
Singer(s)- भूपिंदर सिंह

इधर का माल, उधर का माल
इधर का माल उधर जाता है
उधर का माल, इधर आता है
अरे हम सब जाने, हम सब जाने
अरे हम सब जाने
किधर-किधर कितना गफला हो जाता है
इधर का माल उधर…

ऐ कितना धंधा कानूनी है
कितना धंधा चोरी का
सागर-सागर फैला रहा है
जाल सुनहरी डोरी का
अरे माल पकड़ कर कोई-कोई
कितना माल बनता है
हम सब जाने…

ऐ चोरों से कुतवाल मिले तो
फिर चोरी कब रूकती है
मजदूरों से आँख मिला ते
आँख सभी की झुकती है
कस्टम से नेताओं के घर तक
किसका किससे नाता है
हम सब जाने…

Leave a Reply