Kabhi Khwab Mein Lyrics-Talat Aziz, Dilraj Kaur, Daddy

  • Post comments:0 Comments

Title – कभी ख़्वाब में Lyrics
Movie/ Album- डैडी -1989
Music By- राजेश रोशन
Lyrics- सूरज सनीम
Singer(s)- तलत अज़ीज़, दिलराज कौर

कभी ख़्वाब में या ख़याल में
कभी ज़िंदगानी की धार पे
मैं अधूरा-सा एक गीत हूँ
मुझे अर्थ दे तू सँवार के
कभी ख़्वाब में…

वो बेनाम-सी कोई जुस्तजू
वो अपने आप से गुफ़्तगू
तुझे छू लिया तो मुझे लगा
दिन आ गए हैं क़रार के
कभी ख़्वाब में…

मेरे दिल की नगरी में बस भी जा
तुझे बख्श दूँ ज़मीं-आसमाँ
मुझे डर है तेरी आवारगी
कहीं दो जहां न उजाड़ दे
कभी ख़्वाब में…

न मिली थी तुम तो था जी रहा
न मिलोगी तो न जी पाऊँगा
मेरी तिश्नगी को जगा दिया
तेरे साथ ने, तेरे प्यार ने
कभी ख़्वाब में…

गो, आज पहली ये रात है
तेरे हाथ में मेरा हाथ है
था बहुत दिनों से ये फ़ैसला
तुझे जीत लूँगी मैं हार के
कभी ख़्वाब में…

Leave a Reply