Khwaab Ban Kar Koi Lyrics-Lata Mangeshkar, Razia Sultan

  • Post comments:0 Comments

Title – ख्वाब बन कर कोई Lyrics
Movie/Album- रज़िया सुल्तान -1983
Music By- खय्याम
Lyrics- जाँ निसार अख्तर
Singer(s)- लता मंगेशकर

चूम कर रात सुलाएगी, तो नींद आएगी
ख़्वाब बन कर कोई आएगा, तो नींद आएगी
अब वही आ के सुलाएगा, तो नींद आएगी
ख़्वाब बन कर…

बात जो सिर्फ़ निगाहों से कही जाती है
कोई होंठों से सुनाएगा, तो नींद आएगी
ख़्वाब बन कर….

नर्म ज़ुल्फ़ों की महक, गर्म बदन की खुशबू
चुपके चुपके वो चुराएगा, तो नींद आएगी
ख़्वाब बन कर….

जिस्म हाथों की हरारत से पिघल जाएगा
आग रग-रग में लगाएगा, तो नींद आएगी
ख़्वाब बन कर…

कोई तड़पाएगा, हर आन तो चैन आएगा
कोई हर रात सताएगा, तो नींद आएगी
ख़्वाब बन कर…

Leave a Reply