Pardesiyon Se Na Akhiyaan Milana -Md.Rafi, Jab Jab Phool Khile

  • Post comments:0 Comments

Title : परदेसियों से ना अँखियाँ मिलाना
Movie/Album/Film: जब जब फूल खिले -1965
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics : आनंद बक्षी
Singer(s): मो.रफ़ी

परदेसियों से ना अँखियाँ मिलाना
परदेसियों को है इक दिन जाना

सच ही कहा है पंछी इनको
रात को ठहरें तो उड़ जाएं दिन को
आज यहाँ, कल वहाँ है ठिकाना
परदेसियों से ना…

बागों में जब-जब फूल खिलेंगे
तब-तब ये हरजाई मिलेंगे
गुज़रेगा कैसे पतझड़ का ज़माना
परदेसियों से ना…

प्यार से अपने ये नहीं होते
ये पत्थर हैं ये नहीं रोते
इनके लिये ना आँसू बहाना
परदेसियों से ना…

ना ये बादल ना ये तारे
ये कागज़ के फूल हैं सारे
इन फूलों के न बाग लगाना
परदेसियों से ना…

हमने यही इक बार किया था
इक परदेसी से प्यार किया था
रो-रो के कहता है दिल ये दीवाना
परदेसियों से ना…

आती है जब ये रुत मस्तानी
बनती है कोई न कोई कहानी
अबके बरस देखे बने क्या फ़साना
परदेसियों से ना..

Leave a Reply