Saare Badan Ka Khoon Lyrics-Chitra Singh, Beyond Time

  • Post comments:0 Comments

Title – सारे बदन का ख़ून Lyrics
Movie/Album- बियॉन्ड टाइम Lyrics-1987
Music By- जगजीत सिंह
Lyrics- महमूद दुर्रानी
Singer(s)- चित्रा सिंह

सारे बदन का ख़ून, पसीने में जल गया
इतना चले के जिस्म हमारा पिघल गया
सारे बदन का ख़ून…

चलते थे, गिन रहे थे मुसीबत के रात-दिन
दम लेने हम जो बैठ गए, दम निकल गया
इतना चले के…

अच्छा हुआ, जो राह में ठोकर लगी हमें
हम गिर पड़े तो सारा ज़माना संभल गया
इतना चले के…

वहशत में कोई साथ हमारा ना दे सका
दामन की फ़िक्र की तो गिरेबाँ निकल गया
इतना चले के…

Leave a Reply