Zindagi Aa Raha Hoon Lyrics-Kishore Kumar, Mashaal

  • Post comments:0 Comments

Title – ज़िन्दगी आ रहा हूँ Lyrics
Movie/Album- मशाल -1984
Music By- हृदयनाथ मंगेशकर
Lyrics- जावेद अख्तर
Singer(s)- किशोर कुमार

लिए सपने निगाहों में
चला हूँ तेरी राहों में
ज़िन्दगी आ रहा हूँ मैं…

कई यादों के चेहरे हैं, कई किस्से पुराने हैं
तेरी सौ दास्तानें हैं, तेरे कितने फसाने हैं
मगर इक वो कहानी है, जो अब मुझको सुनानी है
ज़िंदगी आ रहा हूँ मैं…

मेरे हाथों की गर्मी से, पिघल जाएँगी ज़ंजीरें
मेरे कदमों की आहट से, बदल जाएँगी तक़दीरें
उम्मीदों के दीये ले कर, ये सब तेरे लिए ले कर
ज़िंदगी आ रहा हूँ मैं…

कभी तुझको गिला मुझसे, कभी मुझको शिकायत है
मगर फिर भी तुझे मेरी, मुझे तेरी ज़रूरत है
मैं ये इक़रार करता हूँ, मैं तुझसे प्यार करता हूँ
ज़िन्दगी आ रहा हूँ मैं…

Leave a Reply