Kabir Das ji ke Dohe, das kahavan kathin hai

  • Post comments:0 Comments

दास कहावन कठिन है, मैं दासन का दास |
अब तो ऐसा होय रहूँ, पाँव तले कि घास ||

व्याख्या:

ऐसा दास होना कठिन है कि – “मैं दासो का दास हूँ | अब तो इतना नर्म बन कर के रहूँगा, जैसे पाँव के नीचे की घास ” |

Leave a Reply