Kabir Das ji ke Dohe, Aaj kal ke beech me

  • Post comments:0 Comments

आज काल के बीच में, जंगल होगा वास |
ऊपर ऊपर हल फिरै, ढोर चरेंगे घास ||

भावार्थ:

आज – कल के बीच में यह शहर जंगल में जला या गाड़ दिया जायेगा | फिर इसके ऊपर ऊपर हल चलेंगे और पशु घास चरेंगे |

Leave a Reply