Kabir Das ji ke Dohe, Darsan kejai sadhu ka

  • Post comments:0 Comments

दरशन कीजै साधु का, दिन में कइ कइ बार |
आसोजा का भेह ज्यों, बहुत करे उपकार ||

भावार्थ:

व्याख्या:
सन्तो के दरशन दिन में बार – बार करो | यहे आश्विन महीने की वृष्टि के समान बहुत उपकारी है |

Leave a Reply