Kabir Das ji ke Dohe, dasatan hrdaie base

  • Post comments:0 Comments

दासातन हरदै बसै, साधुन सो अधिन |
कहैं कबीर सो दास है, प्रेम भक्ति लवलीन ||

व्याख्या:

जिसके ह्रदे में सेवा एवं प्रेम भाव बसता है और सन्तो कि अधीनता लिये रहता है | वह प्रेम – भक्ति में लवलीन पुरुष ही सच्चा दास है |

Leave a Reply