Kabir Das ji ke Dohe, Doy bakhat nahi kari sake

  • Post comments:0 Comments

दोय बखत नहिं करि सके, दिन में करू इकबार |
कबीर साधु दरश ते, उतरैं भव जल पार ||

भावार्थ:

व्याख्या:
सन्तो के दरशन दिन में दो बार ना कर सके तो एक बार ही कर ले | सन्तो के दरशन से जीव संसार – सागर से पार उतर जाता है |

Leave a Reply