Kabir Das ji ke Dohe, Duje din nahi kari sake

  • Post comments:0 Comments

दूजे दिन नहीं करि सके, तीजे दिन करू जाय |
कबीर साधु दरश ते, मोक्ष मुक्ति फन पाय ||

भावार्थ:

व्याख्या:
सन्त दर्शन दूसरे दिन ना कर सके तो तीसरे दिन करे | सन्तो के दर्शन से जीव मोक्ष व मुक्तिरुपी महान फल पता है |

Leave a Reply