Kabir Das ji ke Dohe, Guru saman data nahi

  • Post comments:0 Comments

गुरु समान दाता नहीं, याचक शीष समान।
तीन लोक की सम्पदा, सो गुरु दीन्ही दान॥६॥

भावार्थ:

व्याख्या:
गुरु के समान कोई दाता नहीं, और शिष्य के सदृश याचक नहीं। त्रिलोक की सम्पत्ति से भी बढकर ज्ञान – दान गुरु ने दे दिया।

Leave a Reply