Kabir Das ji ke Dohe, jab lag nata jati ka

  • Post comments:0 Comments

जब लग नाता जाति का, तब लग भक्ति न होय |
नाता तोड़े गुरु बजै, भक्त कहावै सोय ||

भावार्थ:

व्याख्या:
जब तक जाति – भांति का अभिमान है तब तक कोई भक्ति नहीं कर सकता | सब अहंकार को त्याग कर गुरु की सेवा करने से गुरु – भक्त कहला सकता है |

Leave a Reply