Kabir Das ji ke Dohe, jati baran kul khoy ke

  • Post comments:0 Comments

जाति बरन कुल खोय के, भक्ति करै चितलाय |
कहैं कबीर सतगुरु मिलै, आवागमन नशाय ||

भावार्थ:

व्याख्या:
जाति, कुल और वर्ण का अभिमान मिटाकर एवं मन लगाकर भक्ति करे | यथार्थ सतगुरु के मिलने पर आवागमन का दुःख अवश्य मिटेगा |

Leave a Reply