Kabir Das ji ke Dohe, kabeer guru ki bhakti bin

  • Post comments:0 Comments

कबीर गुरु की भक्ति बिन, अधिक जीवन संसार |
धुँवा का सा धौरहरा, बिनसत लगै न बार ||

व्याख्या:

कबीर जी कहते हैं कि बिना गुरु भक्ति संसार में जीना धिक्कार है | यह माया तो धुएं के महल के समान है, इसके खतम होने में समय नहीं लगता |

Leave a Reply