Kabir Das ji ke Dohe, Kabeer man to ek hai

  • Post comments:0 Comments

कबीर मन तो एक है, भावै तहाँ लगाव |
भावै गुरु की भक्ति करू, भावै विषय कमाव ||

भावार्थ:

व्याख्या:
गुरु कबीर जी कहते हैं कि मन तो एक ही है, जहाँ अच्छा लगे वहाँ लगाओ| चाहे गुरु की भक्ति करो, चाहे विषय विकार कमाओ|

Leave a Reply