Kabir Das ji ke Dohe, kabeer thoda jeevna

  • Post comments:1 Comment

कबीर थोड़ा जीवना, माढ़ै बहुत मढ़ान |
सबही ऊभा पन्थसिर, राव रंक सुल्तान ||

व्याख्या:

जीना तो थोड़ा है, और ठाट – बाट बहुत रचता है| राजा रंक महाराजा — आने जाने का मार्ग सबके सिर पर है, सब बारम्बार जन्म – मरण में नाच रहे हैं |

This Post Has One Comment

  1. Charles Seaward

    Very great post. I just stumbled
    upon your weblog and wished to say
    that I have truly enjoyed browsing your weblog
    posts. In any case I will be subscribing for your feed and I am hoping
    you write once more soon!

Leave a Reply