Kabir Das ji ke Dohe, Man ko maaru patki ke

  • Post comments:0 Comments

मन को मारूँ पटकि के, टूक टूक है जाय |
विष कि क्यारी बोय के, लुनता क्यों पछिताय ||

भावार्थ:

व्याख्या:
जी चाहता है कि मन को पटक कर ऐसा मारूँ, कि वह चकनाचूर हों जाये| विष की क्यारी बोकर, अब उसे भोगने में क्यों पश्चाताप करता है?

Leave a Reply