Kabir Das ji ke Dohe, Swarath ka sab koi saga

  • Post comments:0 Comments

स्वारथ का सब कोई सगा, सारा ही जग जान |
बिन स्वारथ आदर करे, सो नर चतुर सुजान ||

व्याख्या:

स्वार्थ के ही सब मित्र हैं, सरे संसार की येही दशा समझलो| बिना स्वार्थ के जो आदर करता है, वही मनुष्य विचारवान – बुद्धिमान है |

Leave a Reply