Kabir Das ji ke Dohe, Ye teeno ulte bure

  • Post comments:0 Comments

ये तीनों उलटे बुरे, साधु, सती और सूर |
जग में हँसी होयगी, मुख पर रहै न नूर ||

व्याख्या:

साधु, सती और शूरवीर – ये तीनों लौट आये तो बुरे कहलाते हैं| जगत में इनकी हँसी होती है, और मुख पर प्रकाश तेज नहीं रहता|

Leave a Reply