Kabir Das ji ke Dohe, yeh satguru updesh hai

  • Post comments:0 Comments

यह सतगुरु उपदेश है, जो माने परतीत।
करम भरम सब त्यागि के, चलै सो भव जलजीत॥३१॥

भावार्थ:

व्याख्या:
यही सतगुरु का यथार्थ उपदेश है, यदि मन विश्वास करे, सतगुरु उपदेशानुसार चलने वाला करम भ्रम त्याग कर, संसार सागर से तर जाता है|

Leave a Reply