जान बूझकर दानवीर कर्ण ने अपने प्राण संकट में डाले || कर्ण कविता शायरी स्टेटस || Akki Mathur

  • Post comments:0 Comments



#Mahabharat #akkimathur #karnStatus

👇ALL MAHABHARAT POEM VIDEOS LIST👇

Our Facebook Page Link-👇
https://www.facebook.com/technicalakki

Our Instagram ID Link-👇
https://www.instagram.com/akki_mathur_youtuber/

Our Second YouTube Channel Link-👇
https://youtube.com/channel/UCxrXDtvZqg3UKHk_FMozhBQ

Usha Rathore Channel Link-👇
https://youtube.com/channel/UCMSRh0p1VSoX02uP7inlQig

Lyrics & Audio Credit By-💞 ऊषा राठौर

Lyrics-👇
हे कर्ण तुझे शत-शत वंदन है
हे कर्ण तेरा कोटि-कोटि अभिनंदन है

कर्ण महाभारत का सर्वश्रेष्ठ पात्र कहलाता है
कर्ण की श्रेष्ठता के गीत स्वयं केशव भी गाता है
कौंतेय नहीं राधेय कहलाने में सौभाग्य समझता था
पिता सूर्य थे, ये जानकर भी सूत पुत्र स्वयं को कहलाता था
सगे भाइयों से उसको पग-पग पर अपमान मिला
वीर अलौकिक होते हुए भी दीन हीन कहलाता था
एक मित्र क्या होता है ऐ जग वालों कर्ण से सीखो
धर्म का पक्षधर होकर भी अधर्म पर चलना स्वीकार किया
दुर्योधन की खातिर कर्ण ने कुमार्ग पर चलना स्वीकार किया
मित्र के लिए कर्ण ने अपना सारा जीवन वार दिया
दुर्योधन की खातिर अपना तन-मन भी वार दिया
दानवीर कर्ण की गाथा ये सारा जग गाता है
कोई भी याचक खाली ना गया ये महिमा विश्व गाता है!

अपने रक्षक कवच-कुंडल भी भिक्षुक इंद्र को दे डालें
जान बूझकर दानवीर कर्ण ने अपने प्राण संकट में डालें
जिस काल खंड में हर कोई दिखता मानवता का भक्षक था
उसी काल खंड में कर्ण एक सच्चा मानवता का रक्षक था
सच पूछो तो महाभारत सूर्यपुत्र राधेय के हृदय का क्रंदन है
हे कर्ण तुझे शत-शत वंदन है
हे कर्ण तेरा कोटि-कोटि अभिनंदन है!
जान बूझकर दानवीर कर्ण ने अपने प्राण संकट में डाले || कर्ण कविता शायरी स्टेटस || Akki Mathur
#जन #बझकर #दनवर #करण #न #अपन #परण #सकट #म #डल #करण #कवत #शयर #सटटस #Akki #Mathur
जान बूझकर दानवीर कर्ण ने अपने प्राण संकट में डाले || कर्ण कविता शायरी स्टेटस || Akki Mathur
#जन #बझकर #दनवर #करण #न #अपन #परण #सकट #म #डल #करण #कवत #शयर #सटटस #Akki #Mathur

visit youtube channel

Leave a Reply