हिंदी कविता: दुनिया को बड़ा रखने की कोशिश: कुँवर नारायण: Kunwar Narayan: Hindi Poetry: Hindi Kavita

  • Post comments:0 Comments



आशा और निराशा जीवन के दो किनारे हैं। जीवन के वास्तविक रूप को पकड़ पाना उतना ही मुश्किल है जितना पानी पर चमकती धुप को पकड़ पाना। इसमें कोई दो राह नहीं कि ज़िन्दगी अजब-गजब ख़ेल खिलाती है। ये युधिष्ठिर के मायावी महल सी पानी में सतह और सतह पर पानी का भ्रम कराती है। भ्रम उपजाने से ये कहाँ बाज़ आती है? “दुनिया को बड़ा रखने की कोशिश” में इन्हीं भावों को स्पष्ट करते हुए कुँवर नारायण जी कहना चाहते हैं कि आदमी निराशा को स्वीकार कर मरना चाहे तो ज़िन्दगी उसे रोक देती है। जब आशा कि बांह पकड़ कर जीना चाहे तो हाथ छुड़ाकर निराश कर देती है। किन्तु इन सबसे हठ कर भी जब आदमी विरक्त होना चाहे तो वह आभास कराती है कि जीवन से भिन्न उसका कोई अस्तित्व नहीं है।

हिंदी कविता: दुनिया को बड़ा रखने की कोशिश: कुँवर नारायण: Duniya Ko Bada Rakhne Ki Koshish: Kunwar Narayan: Hindi Poetry: Hindi Kavita

Gratitude:
YouTube
Poetry: Kunwar Narayan
BGM: Climbing by Reed Mathis (YT Audio Library)
Voice: #Voysuhz

असलियत यही है कहते हुए
जब भी मैंने मरना चाहा
ज़िंदगी ने मुझे रोका है।

असलियत यही है कहते हुए
जब भी मैंने जीना चाहा
ज़िंदगी ने मुझे निराश किया।

असलियत कुछ नहीं है कहते हुए
जब भी मैंने विरक्त होना चाहा
मुझे लगा मैं कुछ नहीं हूँ।

मै ही सब कुछ हूँ कहते हुए
जब भी मैंने व्यक्त होना चाहा
दुनिया छोटी पड़ती चली गई

एक बहुत बड़ी महत्त्वाकांक्षा के सामने।
असलियत कहीं और है कहते हुए
जब भी मैंने विश्वासों का सहारा लिया—
लगा यह ख़ाली जगहों और ख़ाली वक़्तों को
और अधिक ख़ाली करने जैसी चेष्टा थी कि मैं उन्हें
एक ईश्वर-क़द उत्तरकांड से भर सकता हूँ।

मैं कुछ नहीं हूँ कहते हुए
जब भी मैंने छोटा होना चाहा
इस एक तथ्य से बार-बार लज्जित हुआ हूँ।
कि दुनिया में आदमी के छोटेपन से ज़्यादा छोटा
और कुछ नहीं हो सकता।

पराजय यही है कहते हुए
जब भी मैंने विद्रोह किया
और अपने छोटेपन से ऊपर उठना चाहा
मुझे लगा कि अपने को बड़ा रखने की
छोटी से छोटी कोशिश भी
दुनिया को बड़ा रखने की कोशिश है

#kunwarnarayan, #kunwarnarayanpoems, #antimunchai, #DuniyaKoBadaRakhneKiKoshish
हिंदी कविता: दुनिया को बड़ा रखने की कोशिश: कुँवर नारायण: Kunwar Narayan: Hindi Poetry: Hindi Kavita
#हद #कवत #दनय #क #बड #रखन #क #कशश #कवर #नरयण #Kunwar #Narayan #Hindi #Poetry #Hindi #Kavita
हिंदी कविता: दुनिया को बड़ा रखने की कोशिश: कुँवर नारायण: Kunwar Narayan: Hindi Poetry: Hindi Kavita
#हद #कवत #दनय #क #बड #रखन #क #कशश #कवर #नरयण #Kunwar #Narayan #Hindi #Poetry #Hindi #Kavita

visit youtube channel

Leave a Reply