मैंने एक गंजा देखा,उसकी जेब में कंगा देखा,जबरदस्त हास्य कविता || Santosh Savan With Dr. Kumar Manoj
मैंने-एक-गंजा-देखाउसकी-जेब-में-कंगा-देखाजबरदस्त-हास्य-कविता

मैंने एक गंजा देखा,उसकी जेब में कंगा देखा,जबरदस्त हास्य कविता || Santosh Savan With Dr. Kumar Manoj

  • Post comments:0 Comments

हिंदी कवि सम्मलेनो को फूहड़ता,लफ्फाज, अश्लीलता से निकालकर सामाजिक पारिवारिक, राष्ट्रभक्ति और आम जनमानस के…

Continue Reading मैंने एक गंजा देखा,उसकी जेब में कंगा देखा,जबरदस्त हास्य कविता || Santosh Savan With Dr. Kumar Manoj